चरण- II, बैच-IV

भारत के सौर ऊर्जा निगम (एसईसीआई) को ग्रिड से जुड़े सौर पीवी परियोजनाओं के चयन के लिए कम से कम 5000 मेगावाट की संचयी क्षमता के लिए कार्यान्वयन एजेंसी के रूप में नामित किया गया है जो कि 'बिल्ड-ओन-ऑपरेट' आधार पर व्यवहार्यता गैप फंडिंग (वीजीएफ) तंत्र
 
राज्य के विशिष्ट वीजीएफ स्कीम के तहत सौर परियोजनाएं विभिन्न राज्यों के सौर पार्कों में स्थापित की जाएंगी, जिन्हें केंद्रीय और राज्य एजेंसियों के समन्वित प्रयासों के माध्यम से विकसित किया जाएगा। हालांकि, हाल ही में सौर पार्कों का कार्यान्वयन शुरू हो चुका है, संभव हो सकता है कि कुछ राज्यों में सौर पार्क संभव नहीं हैं या जल्द ही उपलब्ध नहीं हो सकते हैं। ऐसे राज्यों के लिए, सौर परियोजनाओं को राज्य सरकार द्वारा या तो सौर ऊर्जा डेवलपर्स (एसपीडी) द्वारा आयोजित जमीन के साथ सौर पार्क के बाहर स्थित होने की अनुमति दी जाएगी।
 
चरण-II, बैच-IV: जारी किए गए दस्‍तावेजों/अधिसूचनाओं का अभिलेख

दस्तावेज़ / इवेंट

दस्तावेज / आयोजन आयोजित होने की तिथि

भडला चरण -3 सौर पार्क, एनएसएम पीएच -2, बी -4 के तहत 500 मेगावाट की परियोजनाओं के लिए ई-आरए के परिणाम

 

30.08.2017

भडला चरण-चौथा सौर पार्क, राजस्थान में एनएसएम पीएच-II, बी -4 के तहत 250 मेगावाट की परियोजनाओं के लिए ई-आरए के परिणाम

 

30.08.2017

एनएसएम पीएच-II, बी -4 के तहत महाराष्ट्र में 450 मेगावाट परियोजनाओं के लिए ई-आरए के परिणाम (ओपन कैटेगरी)

 

20.09.2016

एनएसएम पीएच-II, बी -4 के तहत ओडिशा में 300 मेगावाट परियोजनाओं के लिए ई-आरए के परिणाम

 

22.08.2016

एनएसएम पीएच-II, बी -4 के तहत गुजरात सौर पार्क में 225 मेगावाट परियोजनाओं के लिए ई-आरए के परिणा

 

 
एमएनआरई अंतिम दिशानिर्देश

14.03.2016

 
वीजीएफ के माध्यम से 5000 मेगावाट ग्रिड से जुड़े सौर पीवी परियोजनाओं की स्थापना के लिए सीसीईए के अनुमोदन

20.01.2016